शुभ प्रभात शायरी

आँख खुलते ही याद .. .

आँख खुलते ही याद आ जाता है तेरा चेहरा,

दिन की ये पहली ख़ुशी भी कमाल होती है।

सुप्रभात

मुबारक हसीं सवेरा शायरी .. .

नयी सी सुबह, नया सा सवेरा,

सूरज की किरणों में हवाओं का बसेरा,

खुले आसमान में सूरज का चेहरा,

मुबारक हो आपको ये हसीं सवेरा.

सुप्रभात

दिलकश सुबह का पैगाम .. .

आँखें खोलो भगवान का नाम लो,

सांस लो ठंडी हवा का जाम लो,

फिर ज़रा मोबाइल हाथ में थाम लो,

और हमसे दिलकश सुबह का पैगाम लो.

सुप्रभात

गुड मोर्निंग कहने उठें . ..

आप नहीं होते तो हम खो गए होते,

अपनी ज़िन्दगी से रुसवा हो गए होते,

ये तो आपको गुड मोर्निंग कहने के लिए उठें हैं,

वर्ना हम तो अभी तक सो रहे होते.

शुभ दिन

मुस्कुराती हर सुबह .. .

हर सुबह तेरी मुस्कुराती रहे,

हर शाम तेरी गुनगुनाती रहें,

मेरी दुआ है कि तू जिसे भी मिलें,

हर मिलने वाले को तेरी याद सताती रहें.

सुप्रभात