शुभ प्रभात शायरी

सुबह के फूल .. .

सुबह के फूल खिल गए,

पंछी अपने सफ़र पर उड़ गये।

सूरज आते ही तारे भी छुप गये,

लो आप भी मीठी नींद से उठ गये।

शुभ प्रभात

हज़ार खुशियां मिले आपको . ..

उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको,

खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको,

हम तो कुछ देने के काबिल नहीं है,

देने वाला हज़ार खुशियां दे आपको।

सुप्रभात

सुबह तुम खुशियां लाना .. .

ऐ सुबह तुम जब भी आना,

सबके लिए खुशियाँ लाना,

हर चेहरे पर हँसी सजाना,

हर आँगन में फूल खिलाना ।

खुशियों के दीप जले .. .

हँसी आपकी कोई चुरा ही ना पाये,

कभी कोई आपको रुला ना पाये,

खुशियों के ऐसे दीप जले ज़िंदगी में,

कि कोई तूफ़ान भी उसे बुझा ना पाये।

। आपका दिन खूबसूरत गुजरे । सुप्रभात ।

सुबह सुबह आपको पैगाम .. .

सुबह-सुबह आपको एक पैगाम देना है,

आपको सुबह का पहला सलाम देना है,

गुज़रे सारा दिन आपका ख़ुशी ख़ुशी,

आपकी सुबह को खूबसूरत सा नाम देना है।

। सुप्रभात ।

Advertisements

शुभ प्रभात शायरी

सुबह सुबह आपकी याद .. .

हर सुबह की धूप कुछ याद दिलाती है,

हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती है,

चाहूँ ना…. चाहूँ कितना भी यार…

सुबह सुबह आपकी याद आ ही जाती है।

सुप्रभात

शायरी झांकती उम्मीदें . ..

फिर सुबह एक नई रोशन हुई

फिर उम्मीदें नींद से झांकती मिली

वक़्त का पंछी घरोंदे से उड़ा

अब कहाँ ले जाए तूफाँ क्या पता ।

नयी सुबह इतनी सुहानी . ..

आपकी नयी सुबह

इतनी सुहानी हो जाये,

दे जाये इतनी खुशियां आज

कि…

ख़ुशी भी आपकी

दीवानी हो जाये ।

खूबसूरत हो सवेरा तेरा. ..

फूलों की वादियों में हो बसेरा तेरा,

सितारों के आँगन में हो घर तेरा,

दुआ है एक दोस्त की एक दोस्त को,

कि तुझसे भी खूबसूरत हो सवेरा तेरा।

सुप्रभात ।

सवेरे सवेरे खुशियों का मेला .. .

सवेरे सवेरे हो खुशियों का मेला,

ना लोगो की परवाह

ना दुनिया का झमेला,

परिंदों का शोर हो

और मौसम अलबेला,

मुबारक हो आपको

आज का सवेरा

सुप्रभातम्

आप का दिन मंगलमय हो

शुभ प्रभात शायरी

बीती तारों वाली रात. ..

बीत गई तारों वाली सुनहरी रात,

याद आई फिर वही प्यारी सी बात,

खुशियों से हर पल हो आपकी मुलाकात,

इसलिए मुस्कुरा के करना दिन की शुरुआत।

सुप्रभात

हँसना और हँसाना .. .

हँसना और हँसाना कोशिश है मेरी,

हर कोई खुश रहे ये चाहत है मेरी,

भले ही मुझे कोई याद करे या ना करे,

हर अपने को याद करना आदत है मेरी।

सुप्रभात

हर दिन की शुरुआत.. .

हर दिन की शुरुआत हो,

मेरा प्यार मेरे साथ हो,

आपके हाथ में मेरा हाथ हो,

और मेरी हर सुबह आपके साथ हो।

सुप्रभात।

नया दिन नई सुबह.. .

नए दिन की नई सुबह का नया-नया अंदाज़,

सारे दिन की झोली में छुपे हुए हैं कुछ राज़,

तुझको मुझको हर किसी को मिलना है कुछ आज,

तो आओ यारों ख़ुशी ख़ुशी कर लें दिन का आग़ाज़।

सुप्रभात।

आँखों ने महसूस किया शायरी . ..

रात गुजरी फिर महकती सुबह आई,

दिल धड़का फिर तुम्हारी याद आई,

आँखों ने महसूस किया उस हवा को,

जो तुम्हें छू कर हमारे पास आई।

सुप्रभात

शुभ प्रभात शायरी

आँख खुलते ही याद .. .

आँख खुलते ही याद आ जाता है तेरा चेहरा,

दिन की ये पहली ख़ुशी भी कमाल होती है।

सुप्रभात

मुबारक हसीं सवेरा शायरी .. .

नयी सी सुबह, नया सा सवेरा,

सूरज की किरणों में हवाओं का बसेरा,

खुले आसमान में सूरज का चेहरा,

मुबारक हो आपको ये हसीं सवेरा.

सुप्रभात

दिलकश सुबह का पैगाम .. .

आँखें खोलो भगवान का नाम लो,

सांस लो ठंडी हवा का जाम लो,

फिर ज़रा मोबाइल हाथ में थाम लो,

और हमसे दिलकश सुबह का पैगाम लो.

सुप्रभात

गुड मोर्निंग कहने उठें . ..

आप नहीं होते तो हम खो गए होते,

अपनी ज़िन्दगी से रुसवा हो गए होते,

ये तो आपको गुड मोर्निंग कहने के लिए उठें हैं,

वर्ना हम तो अभी तक सो रहे होते.

शुभ दिन

मुस्कुराती हर सुबह .. .

हर सुबह तेरी मुस्कुराती रहे,

हर शाम तेरी गुनगुनाती रहें,

मेरी दुआ है कि तू जिसे भी मिलें,

हर मिलने वाले को तेरी याद सताती रहें.

सुप्रभात

सुप्रेभात शायरी!

हर सुबह की धुप कुछ याद दिलाती हैं.. हर फूल की खुशबू एक जादू जगाती हैं… चाहू ना…. चाहू कितना भी यार… सुबह सुबह आपकी याद आ ही जाती हैं .. “सुप्रभात “